Bloggers' Paradise



Sign in or Sign up to write your blogs

लिंग का आकार बढ़ाना संभव नही

युरोलोजिस्ट और लिंग विशेषज्ञ डॉ. रेने करोप्मन के अनुसार लिंग आकार को बड़ा करने के उपाय समय और पैसे की बर्बादी है
चाहे वो पंप हो, पुल्ली या कोई दवा, लिंग को बड़ा करने की कोई भी तकनीक कारगर नहीं है, बल्कि ये लिंग को नुकसान पहुंचा सकती है। और वैसे भी, दुनिया में सिर्फ कुछ ही ऐसे पुरूष हैं जिनके लिंग का आकार सामान्य आकार से वाकई कम है।
काफी पुरूष मैगजीनों में और इंटरनेट साइट पर लिंग का आकार बढ़ाने के बारे में जानकारी और उपाय दिये होते हैं। लेकिन ये सब अधिकतर गलत और गुमराह करने वाली जानकारी ही है, ऐसा डॉ. करोप्मन का मानना है, जो हैग के हैग अस्पताल में कार्यरत हैं

लिंग आकार का सच
पुरूष के लिंग का आकार यौवन के साथ बढ़ना आरंभ हो जाता है और इस दौरान लंबाई और मोटाई में वृद्धि देखी जाती है। इस के बाद ये वृद्धि रूक जाती है। बल्कि वृद्धावस्था में इसका आकार पहले की अपेक्षा कम हो जाता है।
नीदरलैंद में लिंग का औसत आकार उत्तेजित अवस्था में 14 से.मी से कुछ कम है। लेकिन विश्व औसत 12 से.मी की है। और यदि लिंग का आकार 7—17 से.मी तक है तो इसे सामान्य ही माना जायेगा।

मोटापा घटाना
अक्सर लिंग का आकार नापना मुश्किल होता है क्यों​कि अधिक से अधिक पुरूष मोटापे का शिकार हैं। जब वजन बढ़ जाता है तो लिंग का कुछ हिस्सा मोटापे के चलते छुप जाता है।
''यदि आप पतले हैं तो आपका लिंग वैसे ही आकार में थोड़ा बड़ा लगने लगता है। इसलिए जो भी पुरूष अपना लिंग आकर बढ़ाना चाहते हैं, उसके लिए मेरी सलाह होती है कि वे अपना वजन घटायें, ''डॉ. करोप्मान ने कहा। पेट पर अधिक चर्बी से लिंग के उत्तेजित होने में भी कठिनाईयां होती है।

सूक्ष्म लिंग
अक्सर, डॉ. करोप्मन के पास ऐसे लोग आते हैं जिन्हें यह यकीन होता है कि उनका लिंग अत्यंत छोटा है। ''लेकिन असल में उनमें से सिर्फ 1 फीसदी लोग ऐसे होते हैं जिनका सूक्ष्म लिंग होता है,'' डॉ. करोप्मन का कहना है।
सूक्ष्म लिंग वह कहलायेगा जो उत्तेजित अवस्था में 7 सेमी से कम है। तो अधिकतर पुरूष जो ऐसा सोचते हैं, सही नहीं होते।

कटाक्ष
''सामान्यत: इस तरह की मान्यता का मनोवैज्ञानिक कारण होता है। अक्सर यौवन के समय में किसी लड़के को उसके मित्रों द्वारा लिंग के आकार के बारे में कोई कटाक्ष किये जाना इसकी वजह देखी गई है। समय के साथ ये मनो अवस्था कैंसर की तरह बढ़ सकती है
''कई बार ये शारीरिक कुरूपता विकार का रूप ले लेती है जिसमें किसी व्यक्ति के मन में ये बात घर कर लेती है कि उनके शरीर में त्रुटि है। लोगों को ऐसा अपनी नाक या स्तन को लेकर भी लग सकता है। लेकिन इस प्रकार के पुरूष आजीवन इस मनोस्थिति के साथ ​जीते हैं कि उनका लिंग का आकार छोटा है।''

गलत धारणा
बहुत से पुरूष सोचते हैं​ कि यदि लिंग का आकार बढ़ाना हो तो वे अपनी महिला साथी को संभोग के दौरान संतुष्ट नहीं कर पायेंगे। महिला की यो​नि का उपरी हिस्सा ही उसका यौन संतुष्टि के लिए पर्याप्त रूप से संवेदनशील होता है। और एक रिसर्च से ज्ञात हुआ कि लगभग 80 फीसदी महिलाओं को अपने साथी के लिंग आकार से कोई फर्क नहीं पड़ता।
लेकिन ये तथ्य अक्सर इस समस्या से जूझ रहे पुरूषों पर ज्यादा असर नहीं डालते। ''कुछ ऐसे भी पुरूष हैं जिन्हें जितना भी समझाओं की उनके आकार के साथ कोई समस्या नहीं है, लेकिन फिर भी उन पर लिंग का बड़ा करने का दीवानापन सवार रहता है। ये एक मनोवैज्ञानिक समस्या है और ऐसे पुरूषों को मनोचिकित्सक की सहायता लेनी चाहिए,
एक बात तो स्पष्ट है: बहुत से पुरूष अपने लिंग के आकार से संतुष्ट नहीं हैं। यही वजह है कि बाजार में ऐसे बहुत से उत्पाद हैं जो लिंग का आकार बढ़ाने का दावा करते हैं। बस समस्या सिर्फ इतनी है कि ये सभी उत्पादकारगर नहीं हैं।

वजह और व्यायाम
जो पुरूष उत्तेजित ना हो पाने की समस्या से जूझ रहे होते हैं उनके लिए वैक्युम पंप का इस्तेमाल किया जा सकता है। लिंग में रक्त प्रवाह को पंप के जरिए बढ़ाया जाता है। लेकिन ये सिर्फ ३० मिनट के लिए ​ही कारगर है और लगातार ऐसा करने से लिंग को नुकसान पहुंच सकता है।
इसी प्रकार लिंग के साथ किये गये व्यायाम या वजन भी कामयाब साबित नहीं हुए हैं।

दवा और क्रीम
लिंग का आकार बढ़ाने वाली दवा या क्रीम आज तक कभी असरदार साबित नहीं हुई हैं। ''मेरे विचार में इस तरह के दावे करने वाले सभी विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए।''
शल्य चिकित्सा
शल्य चिकित्सा ही शायद इकलौता तरीका है लिंग के आकार को थोड़ा सा बड़ा कर पाने का, लेकिन इसके परिणाम भी बेहदसामान्य ही हैं।
दुर्लभ मामलों में शल्य चिकित्सा के जरिए थोड़ा फर्क आ सकता है। ''यदि लिंग का आकार सचमुच छोटा है और शारीरिक कुरूप विकार ना हो तो ये चिकित्सा एक विकल्प है,''
''इस चिकित्सा से भी लिंग की नरम होने की अवस्था में ही बढ़ावा हो सकता है। उत्तेजित लिंग का आकार बढ़ाने का कोई उपाय नहीं है।''

असंतुष्ट
असंतुष्ट इस शल्य चिकित्सा से नरम अवस्था में लिंग के आकार में 1—1.5 सेमी तक ही वृद्धि देखी गई है। ''अधिकतर लोग इसके परिणाम से बहुत संतुष्ट नहीं होते।'' आखिर में  इस प्रकार कीशल्य चिकित्सा सिर्फ अच्छे डॉक्टर और अस्पतालों से ही करानी चाहिए।
''ये जरूरी है कि शल्य के दौरान लिंग की किसी तंत्रिका को नुकसान ना पहुंचे,। इस तरह का नुकसान लिंग के उत्तेजन को हमेशा के लिए खत्म कर सकता है।


छोटा लिंग ? शायद नहीं
अधिकतर पुरुष जो यह समझते हैं की उनका लिंग छोटा है, उनको यह नहीं पता की इसमें चिंता करने जैसा कुछ नहीं है, ऐसा अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों ने एक हाल ही में लिखे गए लेख में बताया।
लेकिन फ़िर भी ज़्यादा से ज़्यादा पुरुष पूरी दुनिया में डॉक्टरों के पास जा रहे हैं, अपने लिंग को बड़ा करने की आशा लेकर। कई पुरुषों को तो लिंग का सही औसत लम्बाई और आकार की जानकारी भी नहीं। लेकिन कुछ और पुरुषों के लिए, यह एक अस्वाभाविक अवस्था है जो की उनके लिए काफी बड़ी चिंता की बात है।

माप और आकार - औसत और नोर्मल
तो आखिर नोर्मल है क्या? एक सामान्य लिंग का साइज़ करीब 12 सेंटमीटर होता है जब वो तना हुआ होता है। अगर हम लिंग के आस पास के हिस्से की बात करें तो उसका औसत माप होता है 11. 5 सेंटीमीटर। 
लेकिन लिंग बहुत सारे अलग-अलग माप और आकार के होते हैं, और 12 सेंटमीटर केवल औसत माप है। यह नोर्मल औसत तने हुए लिंग के बारे में बिलकुल नहीं बताता, जो की 7 से 18  सेंटमीटर के बीच कुछ भी हो सकता है। 

शारीरिक सोच
असल में अधिकतर पुरुष जो की लिंग के माप और आकार की चिंता को लेकर डॉक्टरों के पास जाते हैं, वो इस नोर्मल औसत लिंग माप और आकार में ही आते हैं, ऐसा सेक्सोलोजिस्ट की एक पूरी टीम और मनोविशेषज्ञों का मानना है जो की मिस्र, ब्राज़ील, कनाडा और फ्रांस के हैं। तो फ़िर पुरुष चिंता क्यूँ करते हैं ?
लिंग के माप और आकार को लेकर लोगों की जो समझ है वो पुरुषों की शरीर को लेकर सोच से जुड़ी हुई है। जिन पुरुषों को लगता है की उनका लिंग बड़ा हैं, उन्हें लगता है की वो बहुत आकर्षक है, ऐसा एक शोध में पाया गया है जो की 52,000 महिला और पुरुषों को लेकर किया गया है।

कौशल ज़रूरी, साइज़ नहीं
लिंग की लम्बाई को लेकर महिलाएं इतना चिंता नहीं करती, ऐसा शोध में पाया गया। 84 प्रतिशत महिलाओं ने कहा की वो अपने साथी के लिंग की लम्बाई से संतुष्ट है। इसकी तुलना में केवल 55 प्रतिशत पुरुषों ने यह कहा की वो अपने लिंग की लम्बाई से खुश हैं।
ये बहुत आश्चर्य की बात नहीं है की अधिकतर महिलाएं अपने साथी के लिंग की लम्बाई से संतुष्ट है, ऐसा विशषज्ञों का मानना है। आखिर, साइज़ नहीं, सेक्स में कुशलता की ज़रूरत होती है। महिलाओं के लिए सेक्स के दौरान लिंग की लम्बाई इतना ज़रूरी नहीं होती, क्यूंकि उनको ज़्यादातर ऑर्गैज़म उनके भग-शीशन से होता है। और अधिकतर महिलाओं को केवल पुरुष के लिंग का उनकी योनी के अन्दर जाने से ऑर्गैज़म नहीं होता।  
वो महिलएं भी जीने उनके जी-स्पोट से बहुत ज़्यादा सुख मिलता है, उनके लिए भी लम्बा लिंग होना ज़रूरी नहीं होता। ये संवेदनशील स्पोट योनी के केवल 5  सेंटीमीटर अन्दर होता है।

गलत जानकारी
हालाँकि ऐसा बहुत कम होता है, लेकिन बहुत छोटे लिंग भी होते हैं। एक तना हुआ लिंग अगर 7 सेंटीमीटर से छोटा हो तो उसे छोटा लिंग मना जाता है, क्यूंकि इससे योनी के अन्दर जाने में फर्क पड़ता है।
लेकिन फिर भी 98 से 100 प्रतिशत पुरुष जो की अपने लिंग के साइज़ को लेकर चिंता करते हैं, उनके लिंग का साइज़ नोर्मल होता है, ऐसा शोध में पाया गया। तो आखिर उन्हें ये दुविधा क्यूँ हो जाती है की उनका लिंग ज़्यादा छोटा है?
लिंग के साइज़ को लेकर गलत जानकारी ही यह परेशानी है। एक तो यह की, लोग दुसरे लड़कों से लिंग के साइज़ की गलत जानकारी लेते हैं। यह अचमबे वाली बात नहीं की लड़के जब खुद अपना लिंग नापते हैं तो वो साइज़ डॉक्टर के नापे हुए साइज़ से ज़्यादा होता है। अपने आप माप करा हुआ तने हुए लिंग की लम्बाई कुछ 15 सेंटीमीटर से ज़्यादा होती है और मोटाई 12 5 सेंटीमीटर से ज़्यादा।

गलत धारणा
लिंग जब तना हुआ नहीं होता, तब के साइज़ का कुछ ख़ास फर्क नहीं पड़ता। कुछ लिंग जो तने हुए ना होने पर छोटे लगते हैं, वो तन जाने पर ठीक लम्बाई के हो जाते हैं। और यह भी ज़रूरी नहीं की तने हुए होने पर अगर लिंग थोडा लम्बा है तो तन जाने पर और भी ज़्यादा लम्बा हो जाये
और यह भी हो सकता है की पोर्न फिल्मों की वजह से उनके मन में गलत धारणा बैठ गयी हों। क्यूंकि पोर्न फिल्मों में पुरुषों के लिंग की लम्बाई कुछ ज़्यादा ही दिखाई जाती है। पोर्न फिल्मों को देखना और यह समझना की आपके लिंग का आकर छोटा है ऐसा है जैसे की बास्केटबॉल देखना और ये चिंता करना की आपको और कद में और लम्बा होना चाहिए।

सब दिमाग में
कुछ पुरुषों के लिए शायद यह परेशानी और भी गंभीर होती है। उन्हें लगता है की उन्हें कोई असमान्य बीमारी है - और जनांग सम्बन्धी समस्या है। इसका मतलब यह की वो इस बारें में पागलों की तरह सोचते रहते हैं - जबकि ऐसा कुछ नहीं होता है। उनको लिंग के आकार और लम्बाई को लेकर बहुत ही गलत ख्याल होते हैं, यहाँ तक की उन्हें लगता है की लिंग का तने होने पर 20 सेंटीमीटर होना ज़रूरी होता है। तो उन्हें लगता है की ऑपरेशन से वो अपने लिंग की लम्बाई बढ़ा सकते हैं। लेकिन इससे वो अपने दिमागी परेशानी को नहीं सुलह सकते, ऐसा सेक्सोलोजिस्टस का मानना है।

लिंग की लम्बाई बढ़ाना नामुमकिन
बहुत सारे पुरुष जो की डॉक्टरों के पास भागते है अपने लिंग के छोटे होने की परेशानी को लेकर, उनके लिए सही में ज़रूरत है सेक्स की सही पढ़ाई की। जब उन्हें यह यह सही से समझ आ जाता है की उनकी लिंग की लम्बाई बिलकुल नोर्मल है, तो वो लिंग को ऑपरेशन से लम्बा करने का विचार दिमाग से निकाल देते हैं, ऐसा सेक्स विशेषज्ञों का मानना है। जो पुरुष ऑपरेशन करने की ठान लेते हैं, उसका अंजाम कुछ ख़ास तो होता नहीं है। केवल एक या दो इंच बढ़ जाने को सफलता मान लिया जाता है और ऐसा भी होता है की कुछ फर्क ही ना पड़े।
जिन लोगों ने अपने लिंग की लम्बाई बढ़वाई है, वो शायद ही उस से संतुष्ट हैं और विशेषज्ञों के अनुसार यह काफी जोखिम भरा भी हो सकता है। ऑपरेशन सिर्फ उन्ही लोगों के लिए ठीक है जिनका वाकई में लिंग का आकार छोटा हैं।
लेकिन उन सभी विज्ञापनों और ईमेल पर आने वाली जानकारी का क्या जिसमे वो गारंटी देते हैं की वो लिंग की लम्बाई बदहवा सकते हैं ? अपने पैसे बचाइए। ये सब धोखेबाजी होती है।

कम वजन, बड़ा लिंग
सिर्फ एक ही असल कारण है की पुरुष अपने लिंग की लम्बाई को नोर्मल से कम समझे। अधिकतर लड़के और पुरुष जो अपने लिंग के छोटे होने की चिंता करते हैं, बात सिर्फ यह यही है की उनका शरीर मोटा है।
ज़्यादा वजन की वजह से आपको अपना लिंग छोटा लग सकता है। अगर गुप्तांग के आ पास ज़्यादा चर्बी हो तो लिंग का निचला हिस्सा दब सा जाता है। तो आप जितने मोटे होंगे, उतना ही कम आपका लिंग आपको दिखेगा और महसूस होगा।
तो मतलब उपाय भी केवल एक ही है, वजन कंट्रोल करना, कसरत करना और स्वस्थ्य रहना: यह सब आपके लिंग को उसके पूरे रूप में उभार पायेगा।


केवल लिंग का बड़ा आकार सुखद सम्भोग सुनिश्चित नहीं करता। हाल ही में की गयीअर्जेंटीनी शोध के अनुसार असल में लिंग के आकार का महिला के संतुष्ट होने से कोई सम्बन्ध नहीं।
असल में बिस्तर में महिला की संतुष्टि के लिए आकार से ज्यादा महत्वपूर्ण लिंग का भौतिक मूल जैसे की त्वचा और बाल होते हैं।
19 से 62 वर्ष तक की 176 महिलाओं से साथ किये सर्वे के अनुसार 65% महिलाओं ने माना की लिंग का आकार महत्व रखता है।  लेकिन साथ ही 70% महिलाओं ने कहा की वो अपने साथी के लिंग के आकार से संतुष्ट हैं।
इतना ही नहीं, जिन महिलाओं को अपने साथी के लिंग का आकार छोटा लगा, वे किसी भी दृष्टि से उन महिलाओं से कम संतुष्ट नहीं जो अपने साथी के लिंग के आकार से खुश थी।डॉक्टर डे बोनिस ने बताया कि एक महिला का लिंग के आकार का दृष्टिकोण उनके यौन संतुष्टि के स्तर के बारे में कुछ नहीं कहता।

लम्बाई एवं परिधि
तो आखिर लिंग का सामान्य आकार कितना है ?  10-15 से.मी. लम्बा लिंग एक औसत आकार कहा जा सकता है। सर्वे के अनुसार 58% महिलाओं ने 10-15 से.मी. को औसत आकार बताया, जबकि 37% के अनुसार 15 से.मी. से अधिक लम्बाई सामान्य आकार थी।
लम्बाई की तुलना में लिंग की मोटाई अधिक महत्वपूर्ण है क्यूंकि मोटाई का मतलब है योनी के बडे हिस्से पर प्रभाव, योनी के पहले 5 से.मी. ही उत्तेजना के लिए मायने रखते हैं, जिसका अर्थ है कि लिंग की लम्बाई से कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता।

भावनात्मक जुड़ाव
यह कहना गलत होगा कि यौन संतुष्टि का लिंग के आकार से कोई लेना देना है।किसी पुरुष का स्पर्श, उसकी त्वचा, उसके बाल और बाकी शारीरिक आकर्षण एक महिला के लिए महत्वपूर्ण हैं, और इन सभी चीज़ों का लिंग के आकार से कोई सम्बन्ध नहीं।
एक सुखद और संतुष्ट यौन जीवन के लिए लिंग के आकार से ज्यादा ज़रूरी है भावनात्मक जुड़ाव, क्यूंकि शायद शारीरिक जुडाव से ज्यादा असरदार भावनात्मक जुडाव ही है।


वात्स्यायन ने लिंग के आकार के आधार पर पुरुष को तीन वर्ग में बांटा है
1. शश (खरगोश के समान छोटे व पतले लिंग वाला)
2. वृष (बैल के समान लंबाई व मोटाई में मंझोले लिंग वाला)
3. अश्व (घोड़े के समान लंबे और मोटे लिंग वाला)
 
योनी के आकार व गहराई के- आधार पर स्त्रियों को भी तीन श्रेणियों में रखा गया है
1. मृगी (हिरनी के समान उथली योनि वाली)
2. बड़वा (घोड़ी के समान मझोली गहराई की योनि वाली)
3. हस्तिनी (हथिनी के समान गहरी योनि वाली)
 
समान व लिंग वाले स्त्री-पुरुष के बीच संभोग को समान मैथुन मान गया है। समान मैथुन को सर्वोत्तम माना गया है।
 
इसके तीन प्रकार हैं
1 शश पुरुष का मृगी नारी के साथ
2 वृष पुरुष का बड़वा नारी के साथ
3 अश्व पुरुष का हस्तिनी नारी के साथ
 
योनि व लिंग की असमानता वाले स्त्री-पुरुष के संभोग को विषम संभोग माना गया है।
 
इसके छह प्रकार हैं
1 शश पुरुष का बड़वा नारी से
2 शश पुरुष का हस्तिनी नारी से
3 वृष पुरुष का मृगी नारी से
4 वृष पुरुष का हस्तिनी नारी से
5 अश्व पुरुष का मृगी नारी से
6 अश्व पुरुष का बड़वा नारी से

 
वात्स्यायन के मुताबिक विषम में भी संभोग का आनन्द मिल सकता है, लेकिन...

1. अश्व पुरुष का बड़वा नारी से एवं वृष पुरुष का मृगी नारी से संभोग हो
2. अश्व पुरुष का मृगी नारी से संभोग कष्टकर हो जाता है।
3 .शश पुरुष का हस्तिनी नारी से संभोग सबसे निम्न दशा है।
4 .शश पुरुष का बड़वा नारी से, वृष पुरुष का मृगी नारी से एवं वृष पुरुष का हस्तिनी नारी से संभोग की दशा मध्यम दशा है
5 . विषम संभोग में भी नारी योनि की गहराई की अपेक्षा पुरुष  लिंग की लंबाई वाला संभोग उस संभोग से श्रेष्ठ है, जिसमें नारी योनि पुरुष के लिंग से बड़ी होती है

लिंग: पांच बड़े तथ्य

लिंग बहुत सारे आकार और साइज़ के होते हैं: सीधा, टेढ़ा, मोटा, पतला, लम्बा, खतना करा हुआ और बिना खतना...लेकिन इसमें से नोर्मल क्या है ?
 
और क्या आप सचः क्या हम किसी पुरुष की नाक देखकर उसके लिंग की लम्बाई का पता लगा सकते हैं ? क्या सभी पुरुषों के लिंग एक ही तरह से तना हुआ होता है ? और वीर्यपात क्या होता है ? जानिए इस सभी सवालों के जवाब हमारे 'पांच बड़े तथ्य' श्रंखला में।
 
दुनिया भर में 'साइज़'
 
चलिए, बात करते हैं साइज़ की। जब लिंग तना हुआ नहीं होता, तो उसकी नोर्मल लम्बाई होती है - 6 से 13 सेंटीमीटर। जब लिंग तना हुआ होता है, तो उसका साइज़ होता है 7 से 17 सेंटीमीटर के बीच। लम्बे लिंग के मुकाबले, छोटे लिंग अधिकतर तना हुआ होने पर ज़्यादा लम्बे हो जाते हैं। आपके लिंग का साइज़ आपकी प्रजातीय वर्ग और नस्ल पर भी निर्भर करता है। अफ्रीका के वंशज के लिंग यूरोप के पुरुषों के मुकाबले ज्यादा लम्बे और मोटे होते हैं। अगर आप एशियाई नसल के हैं, तो आपका थोड़ा छोटा और पतला लिंग हो सकता है, ऐसा वर्ल्ड हेल्थ ओर्गनइजेशन  का कहना है।

तो क्या आप वाकई किसी पुरुष की नाक देखकर यह बता सकते हैं की उसका लिंग कितना बड़ा है? या उसके पैर देखकर? अगर वाकई आप किसी पुरुष के लिंग का नाप जानने की इच्छा रखते हैं तो उसकी हथेली पर नज़र डालिए। जितनी बड़ी रिंग फिंगर (अनामिका) होती है, उतना ही बड़ा उसका लिंग होने की संभव है, ऐसा दक्षिण कोरेया में करे गए एक शोध में पाया गया।
 
जितना ज़्यादा टेस्टास्टरोन (वृषणि) किसी पुरुष को मिली होगी, जब वो अपनी माँ के गर्भ में था, उतनी बड़ी ही उस पुरुष की रिंग फिंगर होती ही। लेकिन इसका असर उसके लिंग के साइज़ पर भी पड़ता है।
लम्बी रिंग फिंगर (अनामिका), लम्बा लिंग पर और जानकारी
 
लेकिन...क्या वाकई साइज़ से फर्क पड़ता है ?
 
तो अब आप शायद अपनी उँगलियों को देखकर सोच रहे होंगे की क्या सच में साइज़ से कोई फ़र्क पड़ता है। ऐसा पाया गया है की लिंग की मोटाई अपने साथी को संतुष्ट करने के लिए ज़्यादा ज़रूरी होती है, क्यूंकि इस से योनी में ज़्यादा उतेजना होती है।
 
और लिंग के साइज़ को एक तरफ कर दे तो, महिलाएं एक स्थायी रिश्ता और अपने साथी की बाकि शारीरिक चीज़ों को भी - जैसे बालों को, संतुष्ट सेक्स का ज़रूरी हिस्सा मानती हैं ! क्या साइज़ से फ़र्क पड़ता है ?
उतेजित होकर तन जाना
 
जब आप कामुकता से उतेजित होते हैं, आपका लिंग तन जाता है और बड़ा भी हो जाता है - इसको इरेक्शन कहते हैं। पुरुषों के लिए अनचाहे भी और स्वाभाविक तौर से भी इरेक्शन होना, यानी लिंग का तन जाना बहुत आम है। शायद यह थोडा शर्मनाक लगे, लेकिन यह बिलकुल नोर्मल है। यह रात में भी हो सकता है, कभी कभी रात में तीन से पांच बार तक
 
शुक्राणु और वीर्यपात
 
जब आप बहुत उतेजित हो जाते हैं, तब आपको ओर्गास्म (चरम आनंद) और वीर्यपात हो सकता है। इसका मतलब है की एक चिपचिपा, सफ़ेद रनग का वीर्य लिंग से बाहर आता है। यह हस्तमैथुन और सेक्स के दौरान भी होता है। और आपके सोते हुए भी, जिसको स्वप्नदोष बोलते है। हस्तमैथुन की तरह, स्वप्नदोष भी बिलकुल नोर्मल है और इस से कोई नुक्सान नहीं होता - सिर्फ यह की आप जब उठते हैं तो चिपचिपा लगता है
 
जैसे जैसे उम्र बढती है, उतना ही ज़्यादा शुक्राणु आपका शरीर बनाने लगता है। तो जब पहली बात आपका वीर्यपात होता है, तो बहुत थोड़े शुक्राणु बाहर निकलते हैं। कुछ सालों के बाद तो कुछ 900 मिलियन शुक्राणु हर वीर्यपात पर बाहर निकलते हैं।

 

क्‍या आपके लिंग में कड़ापन नहीं आता
क्‍या आप संभोग के दौरान सफल नहीं हो पाते हैं, क्‍या आपके लिंग में कड़ा पन नहीं आता या आप के अंदर उत्‍तेजना काफी देर से पैदा होती है? पुरुषों की लव लाइफ के लिए लिंग में कड़ा पन न‍हीं आना खतरनाक साबित हो सकता है। इसे अंग्रेजी में इलेक्‍टाइल डाइस्‍फंशन कहते हैं। सीधे शब्‍दों में इसे नपुंसकता कहा जाता है। अगर ऐसा है, तो आप कुछ जरूरी बातों का पालन कर इससे काफी हद तक कम या खत्‍म कर अपनी पार्टनर को संतुष्‍ट कर सकते हैं। सबसे पहले हम बात करेंगे इसके पीछे के कारणों की। लिंग में कड़ा पन नहीं आने के प्रमुख कारण इस प्रकार हैं-
1. पत्‍नी से बिगड़ते संबंध: यदि आपकी पत्‍नी से आपके संबंध अच्‍छे नहीं हैं और आप दोनों के अंदर संभोग की चाहत खत्‍म हो चुकी है, तो धीरे-धीरे लिंग में कड़ापन आना कम होने लगता है। एक समय ऐसा आता है, जब आप चाह कर भी संभोग नहीं कर पाते। लिहाजा सेक्‍स लाइफ को लंबे समय तक बनाये रखने के लिए पति-पत्‍नी के बीच मधुर संबंध होना जरूरी है।
2. संभोग नहीं करना: मधुर संबंध होते हुए भी यदि आपने पत्‍नी से संभोग करना बंद कर दिया है या कम कर दिया है, तो टेस्‍टोस्‍टीरोन का बनना कम हो सकता है, जिस वजह से लिंग में कड़ापन आने में दिक्‍कत होने लगती है।
3. अन्‍य कारण: धूम्रपान करने, शराब पीने, जरूरत से ज्‍यादा मा‍नसिक तनाव, जरूरत से ज्‍यादा आलस्‍य, अवसादग्रस्‍त होने, आदि से भी लिंग में कड़ापन कम हो जाता है। इसके अलावा डायबटीज़, कोलेस्‍ट्रॉल, किडनी संबंधी बीमारियां और हाई व लो ब्‍लड प्रेशर भी नपुंसकता के कारण हो सकते हैं। नपुंसकता का सबसे बड़ा दुष्‍प्रभाव शादी-शुदा जीवन पर पड़ता है। सबसे ज्‍यादा तलाक भी इसी के कारण होते हैं। यदि लिंग में कड़ापन आने से पहले, या कड़ापन आते ही वीर्य निकल जाता है, यदि संभोग शुरू करते ही वीर्य निकल जाता है, तो यह सभी नपुंसकता की निशानी हैं। यदि संभोग के दौरान आपका वीर्य निकलने से पहले ही आपके ब्‍लैडर में वापस चला जाता है, तो भी यह खतरनाक है। यदि आपके साथ ऐसा होता है, तो घबराने की बात नहीं है। आप बिना किसी संकोच के सीधे किसी अच्‍छे गुप्‍तरोग विशेषज्ञ की सलाह लें। इरेक्‍टाइल डाइस्‍फंशन में वियाग्रा या लेविट्रा जैसी दवाएं दी जाती हैं। ऐसा होने पर पत्‍नी के भरपूर सहयोग की जरूरत पड़ती है। यदि आपके पति के साथ ऐसी समस्‍याएं हैं, तो उनके मनोबल को गिरने मत दें। आप पहले की तरह ही उत्‍तेजक कपड़ों में उनके सामने जायें और उन्‍हें सेक्‍स के लिए प्रेरित करें। किस, फोरसेक्‍स, आदि जारी रखें। हो सकता है शुरू में विफलता हाथ लगे, लेकिन सही इलाज के बाद आपको सफलता जरूर मिल सकती है। इस बात को लेकर ज्‍यादा सोचने

 क्या अपने कभी लिंग आकार बढ़ाने के उपाए आजमाये हैं ?  अगर आप चाहें तो बेनाम रूप से हमें बताइए। ईमेल करिए bluefreedom6668@gmail.com

L 7
C 0
S 2
V 8336

Oye Comments

Loading...

Ruchi रूचि

30, Female

India

My Blog
Blog Stats
L

Likes 7

C

Comments 0

S

Shares 2

V

Views 8336

Get our Android App
'Samvaad - The National Network'

Android app on Google Play
Popular Bloggers
OyePages.com

The best Indian platform for Social Networking, Indian Blogs and Opinion Polls.